December 17, 2008

प्रभु ईशु का जन्मोत्सव क्रिसमस आस्था और उल्लास के साथ मनाने के लिए सभी तैयारियां पूरी

<><><><>( कमल सोनी )<><><><> क्रिसमस और नव वर्ष के आगमन पर बाजारों की रौनक लौट आई है बाजारों में कपडे, ग्रीटिंग, और उपहारों की दुकाने सज गई है अपने अपने तरीकों से शुभकामनाएं देने के लिए बाज़ारों में उपहारों की तलाश में भी लोग दुकानों पर पहुंचने लगे हैं हलाकि नव वर्ष से पूर्व क्रिसमस के तैयारियों में जुटे ग्राहकों की संख्या ज़्यादा है व्यापारी वर्ग भी इस बार अच्छे कारोबार की उम्मीद कर रहे हैं बाज़ार में क्रिसमस ट्री, और संता क्लाज़ की डिमांड ज़्यादा है साथ ही स्वीट्स और बेकरी में भी ग्राहकों का हुजूम देखा जा सकता है
इस बार बाज़ार में गिटार बजाते, बर्फीली वादियों में बैठे और नाचते गाते सान्ता क्लाज़ ग्राहकों के लिए आकर्षण का केंद्र हैं साथ ही ईसा मसीह और मदर मेरी के आकर्षक पुतले भी बाज़ार की रौनक में चार चाँद लगा रहे हैं क्रिसमस के शुभकामना सन्देश वाला ग्रीटिंग कार्ड लगा हुआ क्रिसमस ट्री भी ग्राहकों को लुभा रहा है सान्ता की ड्रेस टोपी, की खूब बिक्री हो रही है क्रिसमस के लिए शुभ सन्देश लिखी डाईरियाँ भी लोग उपहार स्वरुप देने के लिए पसंद कर रहे हैं
होंगी प्रार्थना सभाएँ : प्रभु ईशु का जन्मोत्सव आस्था और उल्लास के साथ मनाने के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं चर्च और क्रिसमस ट्री सज धज कर तैयार हैं हर चर्च में चारनी (झोपडी) तैयार है कल सुबह से ही सामूहिक प्रार्थना सभाओं का आयोजन शुरू हो जायेगा मुंबई में हुए आतंकी हमलों के बाद क्रिसमस पर घटना के शिकार और शहीदों को श्रद्धांजली अर्पित की जायेगी कल रत १० बजे चर्चों में केरोल सिंगिंग प्रार्थना की जायेगी क्रिसमस पर केरोल सिंगिंग प्रार्थना, क्रिसमस ट्री, केंडल और संता क्लाज़ का विशेष महत्व है क्रिसमस पर पुअभु इशू का जन्मोत्सव मनाकर सभी एक दूसरे को केक और मिठाइयां बाँट कर शुभकामनाएं देते है
नन्हे मुन्ने बच्चों ने शांति दूत बनकर शांति का दिया सन्देश :- भोपाल में क्रिसमस से पूर्व नन्हे मुन्ने स्कूली बच्चों का प्रीती सेंटा फैशन शो का आयोजन किया गया जहां बच्चों ने संता क्लाज की ड्रेस पहनकर आतंकवादियों को शांति का सन्देश दिया है खुशियों और आनंद के पर्व क्रिसमस का इंतज़ार सभे को होता है लेकिन इस पर्व का सब्ससे ज़्यादा बेसब्री से इंतज़ार होता है बच्चों को मुबई आतंकी हमले में मारे गए लोगों और शहीदों को मोम्बत्ते जलाकर श्रद्धांजली दी और विश्व शांति की कामना की इन स्कूली बच्चों ने शांति दूत बनकर शांती का सन्देश दिया इस दौरान बच्चों के हाथों में बैनर थे जिस पर लिखा था "अब और माफी नहीं"

1 comment:

समयचक्र - महेद्र मिश्रा said...

क्रिसमिस की हार्दिक बधाई....