December 30, 2008

डाकिया लाइसेंस लाया |

<><><>(कमल सोनी)<><><> क्या आपको अपना लाइसेंस बनवाना है ? तो अब चिंता करने की कोई बात नहीं अब आपको लाइसेंस बनवाने के लिए चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे जी हाँ परिवहन विभाग अब आपका लाइसेंस आपके घर तक पहुँचने की व्यवस्था कर रहा है लाइसेंस अब पासपोर्ट पैटर्न पर बनेंगे अधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार परिवहन विभाग और डाक विभाग के बीच एक एम्ओयूं साइन होगा जिसके बाद जल्द ही यह सुविधा पूरे प्रदेश में लागू हो जायेगी सूत्रों के अनुसार मध्यप्रदेश शासन ने भी इसकी अनुमति दे दी है आगामी १५ दिनों में दोनों विभागों में समझौता होने की संभावना है साथ ही परिवहन विभाग वाहनों के पंजीयन और लाइसेंस के लिए दर्ज किये गए पते का सत्यापन भी डाकिये से ही कराएगा दोनों विभागों में होने वाले अनुबंध के बाद पूरे प्रदेश के जिलों के परिवहन कार्यालाओं के सत्यापन का काम भी डाक विभाग द्वारा संभाल लिया जायेगा इसके लिए परिवहन विभाग को डाक सबंधी खर्चे ही डाक विभाग को देने पड़ेंगे हलाकि उम्मीद की जा रही है कि इस नई व्यवस्था से दलाओं और लाइसेंस में हो रहे फर्जीवाडे में कुछ हद तक अंकुश लग सकेगा खबर to यह भी है कि आधिकारिक स्तर पर सभी चर्चाएँ पूर्ण हो चुकी हैं अब सिर्फ एम्ओयूं साइन करने की औपचारिकताएं ही बाकी हैं
कैसे होगा काम :- प्रदेश भर के जिलों में स्थापित परिवहन विभाग के कार्यालय में एक विशेष खिड़की खोलकर उसमें डाक विभाग के एक कर्मचारी को तैनात किया जायेगा आर.टी.ओ. कार्यालय से रोजाना डाक और सत्यापन के दस्तावेज़ डाकिये को संग्रहित करने होंगे साथ ही प्रतिदिन की सत्यापन रिपोर्ट आर.टी.ओ. कार्यालय में जमा करानी होगी साथ ही परिवहन विभाग और डाक विभाग की वेबसाईट पर भी इसकी सम्पूर्ण जानकारी फीड की जायेगी जिससे पता चल सकेगा कि लाइसेंस कहाँ और किस स्थिति में है
क्या कारण है समझौते के पीछे :- दिनों दिन डाक विभाग के हाथो से काम निकल कर निजी कोरोयर कंपनी के हाथो में जा रहा था साथ ही दूर दराज़ के क्षेत्र तक भी डाक विभाग के पहुँच है जहां कोरियर एजेंट नहीं जाते बहरहाल डाक विभाग और परिवहन विभाग के इस समझौते से उम्मीद की जा रही है कि दलाओ और बिचौलियों पर कुछ हद तक अंकुश लग सकेगा हलाकि शासकीय विभागों में व्याप्त अफसरशाही और भ्रष्टाचार इस नई पहल में कितनी बाधा पहुंचायेगा यह देखना होगा लेकिन इस नए समझौते से लाइसेंस बनवाने वालों और वाहनों के पंजीयन करने वालों को थोड़ी राहत ज़रूर मिलेगी

3 comments:

विनय said...

नववर्ष की हार्दिक मंगलकामनाएँ!

pritima vats said...

जानकारी के लिए धन्यवाद, यदि हर प्रदेश में यह व्यवस्था लागू हो जाए तो बहुत सारी परेसानी से निजात मिल जाएगा शायद।

नववर्ष मंगलमय हो।

नीरज गोस्वामी said...

नव वर्ष की आप और आपके समस्त परिवार को शुभकामनाएं....
नीरज