February 21, 2009

मध्यप्रदेश: शिवराज ने शुरू किया कोयला सत्याग्रह - केन्द्र पर लगाए सौतेले व्यवहार का आरोप

<><><>(कमल सोनी)<><><>मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्र सरकार प्र सौतेले व्यवहार का आरोप लगाते हुए कोयला सत्याग्रह की शुरूआत की है मुख्यमंत्री के इस कोयले सत्याग्रह को आगामी लोकसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है मुख्यमंत्री ने कोयला सत्याग्रह के दौरान प्रदेश बीजेपी कार्यालय में अपनी पहली सभा में ही एक बार वीर विदेशी मूल का मुद्दा उठाते हुए कहा कि जिस पार्टी का नेता ही विदेशी हो वो इस देश की जनता का दर्द क्या जानेगी
प्रदेश बीजेपी कार्यालय में दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्होंने इस सत्याग्रह की शुरुआत की उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस हमें चुनाव में नहीं हरा पाई तो अब बेईमानी करके बीजेपी को हराना चाहती है अपने संबोधन में उन्होंने रेल बजट लो लालू प्रसाद यादव के घर का बजट करार दिया मध्यप्रदेश की बिजली समस्या पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में पन बिजली उत्पादन के बारे में बताते हुए कहा कि पहले हम ३१०० मेगावाट बिजली का उत्पादन कर लेते थे लेकिन अभी हमारे प्रदेश के सारे बाँध खाली है यही वजह है कि हमारा बिजली उत्पादन घटाकर ३५० मेगावाट रह गया है ऐसे में हम कोयले से बिजली उत्पादन के सयंत्रों बिरसिंगपुर, अमरकंटक, और सारणी पर ही आश्रित है उन्होंने कहा कि हमें बिजली उत्पादन के लिए १७.१ लाख मिलियन टन कोयले की आवश्यकता है लेकिन केन्द्र ने सिर्फ़ १३.५ लाख मिलियन टन कोयले का आवंटन किया और सिर्फ़ ११ लाख मेट्रिक टन कोयला हमें दे रही है और वह भी लो ग्रेट का यही वजह है कि हम पर्यात बिजली उत्पादन नहीं कर पा रहे हैं और प्रदेश में बिजली संकट गहराता जा रहा है मुख्यमंत्री ने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस जान बूझकर प्रदेश में बिजली संकट लाना चाहती है ताकि वह अपनी वोटों की फसल काट सके
न्याय यात्रा पर निकलें शिवराज :- पहले चरण में वाहनों के जरिए भोपाल से इटारसी तक होने वाली इस यात्रा के दौरान मार्ग में जगह-जगह मुख्यमंत्री का स्वागत किया जाएगा और जनसभाएं होंगी। यात्रा प्रभारी रामेश्वर शर्मा ने प्रदेश कार्यालय में जिले के नेताओं की बैठक कर यात्रा से जुड़ी व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी सौंपी। शर्मा के अनुसार यात्रा 21 और 22 फरवरी को ग्रामीण अंचल से होती हुई सारणी पहुंचेगी, जहां से मुख्यमंत्री पाथाखेड़ा कोयला क्षेत्र तक पैदल यात्रा करते हुए पहुंचेंगे और सत्याग्रह करेंगे।
पत्नी साधना भी होंगी साथ में :- मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के साथ उनकी पत्नी साधना सिंह भी कोयला सत्याग्रह में भोपाल से पथाखेदा तक साथ रहेंगी सत्याग्रह की शुरुआत में उन्होंने कहा कि हमारे प्रदेश के साथ जो अन्याय हो रहा है उस अन्याय के ख़िलाफ़ में अपने पति के साथ हूँ
न्याय यात्रा के दौरान जनसभाएं :- 21 फरवरी को साढ़े 12 बजे मंडीदीप, डेढ़ बजे औबेदुल्लागंज, तीन बजे बुधनी में, साढ़े चार बजे होशंगाबाद शाम साढ़े छह बजे इटारसी में जनसभा होगी। न्याय यात्रा रात्रि में इटारसी में विश्राम करेगी। 22 फरवरी को इटारसी से यात्रा शुरू होगी और शाहपुर, चौपना, सारणी स्टेडियम में मुख्यमंत्री की जनसभा होगी। इसके बाद वे पदयात्रा कर सात किमी दूर पाथाखेड़ा जाएंगे और कोयला उठाएंगे।
नियामक आयोग बनाने की मांग :- मुख्यमंत्री ने केन्द्र और राज्य सरकारों के परस्पर संबंधों को परिभाषित करते हुए कोयला आवंटन के लिए नियामक आयोग बनने की मांग भी की है
मुख्यमंत्री के इस कोयला सत्याग्रह की शुरुआत में प्रदेश बीजेपी कार्यालय में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह तोमर, विक्रम वर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री सुन्दरलाल पटवा, कैलाश जोशी, बिजली मंत्री अनूप मिश्रा, सहित पार्टी के कई नेता और प्रदेश सरकार के मंत्री मौजूद थे
video

1 comment:

Udan Tashtari said...

चुनाव सामने है भाई!!